Stay Healthy in Winters : सर्दियों में गर्म चीजें खाना है हेल्दी? जान लें इसका असर क्या होता है

Stay Healthy in Winters

Stay Healthy in Winters

Warm Food During Winter Season: आयुर्वेद के अनुसार, अग्नि fire यानी हमारी डाइजेशन digestion की क्षमता को सूरज से एनर्जी मिलती है. सूरज मेटाबॉलिज्म metabolism का सोर्स है. हमारी Digestion Capacity पूरे दिन सूरज के पावर, पोजिशन और मूवमेंट पर निर्भर करती है.

Warm Food During Winter Season: सर्दियों में अक्सर गर्म खाना खाने की सलाह दी जाती है. आयुर्वेद के अनुसार, अगर आप सुबह सबसे पहले मील (Meal) में गर्म चीजें खाते हैं, तो इससे आपका डाइजेस्टिव सिस्टम (Digestive System) दुरुस्त रहता है. एक्सपर्ट्स के मुताबिक, सर्दियों में आपको इसका खास ख्याल रखना चाहिए कि ठंडी चीजें न खाएं. कई लोगों को ठंडी चीजें खाना पसंद होता है, लेकिन इस मौसम में बहुत ज्यादा ठंडी चीजें खाने से बचें.

गर्म खाना खाने से क्या होता है?

सर्दियों में गर्म Food खाना खास करके ब्रेकफास्ट (Breakfast) सेहत के लिए हेल्दी माना जाता है. आयुर्वेद के अनुसार, अग्नि यानी हमारी डाइजेशन की क्षमता को सूरज से एनर्जी मिलती है. सूरज मेटाबॉलिज्म का सोर्स है. हमारी Digestion Capacity पूरे दिन सूरज के पावर, पोजिशन और मूवमेंट पर निर्भर करती है.

ब्रेकफास्ट दिन का सबसे पहला मील (Meal) होता है. सुबह सूरज के उगने के साथ अग्नि यानी हमारे पेट का डाइजेस्टिव फायर और भूख भी जागती है. हालांकि इसकी क्षमता पूरी नहीं होती, इसलिए अगर आप अपने डाइजेस्टिव सिस्टम को इस तरह तैयार करना चाहते हैं, जिससे वो दिनभर खाने की चीजें पचा पाए तो हल्का और गर्म नाश्ता करें. इसका पाचन आसानी से होगा और ये आपको डाइजेस्टिव सिस्टम की क्षमता को भी बेहतर करेगा.

गर्म ब्रेकफास्ट एक तरह से वॉर्म-अप एक्सरसाइज की तरह 

गर्म ब्रेकफास्ट एक तरह से वॉर्म-अप एक्सरसाइज की तरह होता है और इसके बाद जब आप लंच करते हैं तो डाइजेशन बेहतर ढंग से होता है. इससे डाइजेशन में मदद मिलती है. आयुर्वेद के अनुसार, दोपहर 12 से दो बजे के बीच लंच करना आपके लिए बेहतर होगा. इस समय आपकी डाइजेशन की क्षमता सबसे बेहतर होती है.

ठंडा ब्रेकफास्ट क्यों नहीं करना चाहिए?

ठंडा ब्रेकफास्ट डाइजेस्टिव सिस्टम के लिए अच्छा है या नहीं इसे लेकर एक्सपर्ट कहते हैं कि जब आप ठंडा ब्रेकफास्ट करते हैं तो ये ठीक वैसा ही है जैसे आप आग पर पानी डाल रहे हों. इससे फायदे की जगह उल्टा नुकसान होगा,  इसलिए गर्म और ताजा बना हल्का नाश्ता करें. आयुर्वेद के अनुसार, ऐसे लोग जिनका पित्त दोष ज्यादा होता है, उनके लिए ठंडा ब्रेकफास्ट ठीक है. लेकिन जिनकी प्रकृति इससे अलग है, उनके लिए गर्म ब्रेकफास्ट ज्यादा अच्छा होगा.

(Disclaimer: यहां दी गई जानकारी घरेलू नुस्खों और सामान्य जानकारियों पर आधारित है. इसे अपनाने से पहले चिकित्सीय सलाह जरूर लें. ayurvedindian इसकी पुष्टि नहीं करता है.)

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.