Diabetes : रक्त शर्करा के स्तर को स्वाभाविक रूप से कम करने के लिए 5 आयुर्वेदिक जड़ी बूटियां

Date:

Ayurvedic tips to control Diabetes : मेथी से लेकर काली मिर्च (Fenugreek to Black Pepper) तक, 5 आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियां जो टाइप 1 और टाइप 2 डायबिटीज दोनों में ब्लड शुगर लेवल (Sugar Level) को मैनेज करने में मदद कर सकती हैं। जानने के लिए पढ़ें।

टाइप 1 और टाइप 2 (Type 1 Type 2) दोनों प्रकार के मधुमेह Diabetes के इलाज में जड़ी-बूटियों को सबसे प्राकृतिक और प्रभावी तरीका माना जाता है। जबकि, मधुमेह Diabetes को कई दवाओं से नियंत्रित किया जा सकता है, कुछ जीवनशैली (lifestyle) में बदलाव हैं जैसे सही भोजन करना, समय पर सोना (sleep on time), शारीरिक गतिविधि जिन्हें नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है। खैर, आयुर्वेद भी एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। आपकी रसोई में उपलब्ध कई जड़ी-बूटियाँ आपके रक्त शर्करा के स्तर को प्रबंधित करने में चमत्कार कर सकती हैं। आपको बस उन्हें सही समय पर और सही तरीके से लेना है। डॉ. कृतिका उपाध्याय , अपोलो स्पेक्ट्रा हॉस्पिटल, मुंबई ने ayurvedindian.com से बात की और बताया कि कैसे कुछ आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियां टाइप 2 और टाइप 1 दोनों प्रकार के मधुमेह को प्रबंधित करने में मदद कर सकती हैं।

मधुमेह को नियंत्रित करने के लिए 5 आयुर्वेदिक जड़ी बूटियां

मेथी (Fenugreek ): यह कड़वा स्वाद के कारण मोटापे (obesity) और कोलेस्ट्रॉल (cholestrol) से निपटने में मदद कर सकता है, उपवास (fasting) रक्त शर्करा (Blood Sugar Levels) को कम करता है, ग्लूकोज सहनशीलता में सुधार करता है, और कुल कोलेस्ट्रॉल, एलडीएल (LDL) और ट्राइग्लिसराइड्स को भी कम करता है।

दालचीनी: यदि आप मधुमेह रोगी हैं? फिर, दालचीनी आपके स्वास्थ्य के लिए चमत्कार कर सकती है। यह इंसुलिन (Insulin) प्रतिरोध को कम करता है और भोजन के बाद रक्त शर्करा (Blood Sugar Levels) के स्तर को कम करता है। यह अतिरिक्त वसा को पिघलाने और कोलेस्ट्रॉल के स्तर को अनुशंसित (Control) सीमा में रखने में भी उपयोगी है।

अदरक (Ginger): अदरक में एंटी-डायबिटिक (anti diabitic), हाइपोलिपिडेमिक और एंटी-ऑक्सीडेटिव गुण होते हैं। यह चयापचय को बढ़ावा देने में मदद करता है और HbA1C के साथ-साथ फास्टिंग शुगर को कम करता है। डॉक्टर (doctor) की सलाह के अनुसार मध्यम मात्रा में इस जड़ी बूटी का सेवन करें।

काली मिर्च (Black Pepper): इसके बहुत सारे फायदे हैं। यह इंसुलिन संवेदनशीलता और आपके शरीर की रक्त शर्करा के स्तर को कम करने की क्षमता में सुधार करने में मदद करता है। काली मिर्च ‘पाइपेरिन’ नामक एक महत्वपूर्ण घटक से भरी हुई है जो रक्त शर्करा के स्तर को सामान्य श्रेणी में बनाए रखने में मदद करती है।

जिनसेंग: यह उच्च प्रतिरक्षा-बढ़ाने वाले गुणों से भरपूर है और मधुमेह विरोधी भी है। यह अग्न्याशय द्वारा इंसुलिन के उत्पादन को उत्तेजित करने के साथ-साथ किसी के शरीर में कार्बोहाइड्रेट के अवशोषण को कम करता है। इस प्रकार, कोई व्यक्ति रक्त शर्करा के स्तर को सामान्य श्रेणी में बनाए रखने में सक्षम होगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Share post:

Subscribe

spot_imgspot_img

Popular

More like this
Related

आयुर्वेद के मशहूर लेखक, चिकित्सक और शिक्षक डॉ. एल महादेवन का निधन

आयुर्वेद चिकित्सा (Ayurveda) में देश विदेश में मशहूर डॉ....

भारतीय न्याय संहिता में आयुर्वेद और पारंपरिक डॉक्टर्स के साथ हुआ अन्याय

बेशक मोदी सरकार के राज में पारंपरिक चिकित्सा पद्धतियों...

Thyroid को जड़ से खत्म करने के लिए अपनाएं आयुर्वेद और योग

आज के मार्डन समय में लोगों को बीमारियों से...