Jharkhand : झारखंड में योजना का हुआ आरंभ, स्वास्थ्य क्षेत्र में सुविधा मिलेगी

Date:

jharkhand govt working hard for medical facilities : झारखंड रांची में स्वास्थ्य के क्षेत्र में अधिक से अधिक निवेश हो सके , इसके लिए सरकार दिन रात काम कर रही है. लोगों को अपने ही इलाके में अच्छी से अच्छी चिकित्सा सुविधा मिल सके , यह सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता है. 

रांचीः झारखंड (Jharkhand ) राज्य में स्वास्थ्य के क्षेत्र में अधिक से अधिक निवेश हो, इसके लिए सरकार दिन रात काम कर रही है. लोगों को अपने ही राज्य में अच्छी चिकित्सा (Medical Facilities ) सुविधा मिले, यह सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता (Priority) है. सरकार ने हाल ही में आयुर्वेद (Ayurved ), योग(Yoga ) और प्राकृतिक चिकित्सा,(Natural Medication ) यूनानी, (Yunani )सिद्ध और होम्योपैथी (Homeopathy )(आयुष) की नियुक्ति की है. इससे झारखंड में रहने वाले लोगों को काफी लाभ (Benefit ) मिलेगा. मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन (Hemant Soren )की मौजूदगी में इसका शुभारंभ झारखंड सरकार और सत्य साई हार्ट हॉस्पिटल (Satya sai heart Hospital ) राजकोट और अहमदाबाद के साथ एमओयू (एमओयू )(mou) किया गया.

स्वास्थ्य के क्षेत्र में राज्य के लिए आज का दिन रहेगा ऐतिहासिक 
मुख्यमंत्री हेमंत सोरेने (Hemant Soren ) ने कहा कि आज बड़े पैमाने पर आयुष (Ayush ) में नियुक्ति हुई है. यूनानी चिकित्सा पद्धति एक ऐसी तकनीक है, जो लंबे समय से चली आ रही है. आज का दिन राज्य के लिए स्वास्थ्य (Health ) के क्षेत्र में ऐतिहासिक (Historical ) दिन है ,जब बड़े पैमाने पर नियुक्ति हुई है. झारखंड के रहने वाले लोग, जिनकी संख्या सबसे अधिक है, आदिवासी बहुल राज्य है, राज्य अलग होने का बाद थोड़ा सा इस राज्य में शहरी करण का एक चेहरा देखने को मिल रहा है. एक वक्त था जब रांची का बाईपास इलाका भी वीरान और सन्नाटे से भरा होता है, यहां के लोगों का प्रकृति से हमेशा से जुड़ाव रहा है. प्राकृतिक व्यवस्था के माध्यम से ही लोग इलाज करते थे. आज के दिन भी कई ऐसे चीजें दुनिया के सामने पड़ी है जो हमारे सामने चुनौती है. आज एक नई पीढ़ी आयुष की व्यवस्था को आगे बढ़ाने का प्रयास कर रहा है और राज्य सरकार ने 217 लोगों को सरकार का अंग बनाया है.

लोगों के बेहतर इलाज के लिए सरकार कर रही प्रयास
मुख्यमंत्री ने कहा कि सुदूर ग्रामीण क्षेत्र से कई तकलीफ देह खबरें भी ग्रामीण क्षेत्र से देखने और सुनने को मिलती है. ये नियुक्ति उसमें सहायक होगा.  राज्य में आयुर्वेद ,यूनानी और होमियो पैथी की पढ़ाई कहां हो रही अभी तक लोगों को बहुत जानकारी नहीं रहती है. राज्य सरकार स्वास्थ्य को लेकर सर खपाती रहती है फिर भी समाधान नहीं निकलता है. नई नियुक्ति में उस चुनौती को स्वीकार करना होगा. राज्य सरकार बेहतर करने वाले को 15 हजार रुपए प्रति महीने इंसेंटिव देने का निर्णय लिया है. इस क्षेत्र में शिक्षा के लिए भी राज्य सरकार बेहतर शुरुआत करेगी.

राज्य के युवाओं को मिलेगी आयुष की पढ़ाई
बता दें कि राज्य के युवाओं को आयुष की पढ़ाई दी जाएगी. राज्य सरकार कोशिश करेगी आयुष की पढ़ाई इसी राज्य में बेहतर तरीके से हो और यहां के छात्रों को इसका लाभ मिले. इसके साथ ही सत्य साई हार्ट हॉस्पिटल के साथ जो एम ओ यू हुआ है वहां राज्य के बच्चे और वयस्क को मुफ्त चिकित्सा दी जायेगी. राज्य सरकार वहां तक मरीजों को पहुंचाने का काम करेगी और इसके लिए मरीज को 10 हजार रुपए आने जाने के लिए देगी. आज के दिन स्वास्थ्य की समस्या विकराल रुप लेने जा रही है.  स्वस्थ रहना आज के दिन बड़ी चुनौती है. ग्रामीण क्षेत्र के भी बेहतर चिकित्सा देना राज्य सरकार का लक्ष्य है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Share post:

Subscribe

spot_imgspot_img

Popular

More like this
Related

आयुर्वेद के मशहूर लेखक, चिकित्सक और शिक्षक डॉ. एल महादेवन का निधन

आयुर्वेद चिकित्सा (Ayurveda) में देश विदेश में मशहूर डॉ....

भारतीय न्याय संहिता में आयुर्वेद और पारंपरिक डॉक्टर्स के साथ हुआ अन्याय

बेशक मोदी सरकार के राज में पारंपरिक चिकित्सा पद्धतियों...

Thyroid को जड़ से खत्म करने के लिए अपनाएं आयुर्वेद और योग

आज के मार्डन समय में लोगों को बीमारियों से...