Dangerous Tulsi Leaves: तुलसी के पत्ते खाने से भी हो सकता है उल्टा असर

Date:

Side Effects of Tulsi Leaves: आयुर्वेद के अनुसार, इम्युनिटी immunity बढ़ाने से लेकर कई हेल्थ प्रॉब्लम्स health problems में तुलसी के पत्तों का सेवन फायदेमंद है, लेकिन आपको कुछ बातों का ख्याल रखना चाहिए.

benefits of Tulsi Leaves: तुलसी के पत्तों (Tulsi Leaves) में कई औषधीय गुण होते हैं. आयुर्वेद के अनुसार, इम्युनिटी बढ़ाने से लेकर कई हेल्थ प्रॉब्लम्स में तुलसी के पत्तों का सेवन फायदेमंद है, लेकिन तुलसी के पत्तों के सेवन में भी आपको कुछ बातों का ख्याल रखना चाहिए. ज्यादा मात्रा में तुलसी के पत्तों (Tulsi Leaves Side Effects) का सेवन खतरनाक हो सकता है.

दांतों को नुकसान (Teeth Problems)

तुलसी के पत्तों में Mercury Content होता है. जब आप इसे चबाते हैं, तो ये तत्व बाहर निकलते और इससे आपके दांतों को नुकसान पहुंचता है. तुलसी के पत्ते एसिडिक होते हैं और अगर आप रोजाना ज्यादा मात्रा में इसे चबाते हैं, तो दांत के एनामेल पर असर पड़ता है.

फर्टिलिटी पर असर

तुलसी का सेवन सही मात्रा में करना फायदा पहुंचाता है, लेकिन ज्यादा मात्रा में इसके सेवन से पुरुषों में स्पर्म काउंट को कम कर सकता है. NCBI की रिपोर्ट के मुताबिक, तुलसी की पत्तियों में एंटी-फर्टिलिटी गुण पाया जाता है. ज्यादा तुलसी के पत्ते खाते हैं, तो ये स्पर्म काउंट पर असर डाल सकता है.

प्रेग्नेंसी और ब्रेस्ट फीडिंग कराने वाली ​महिलाओं के लिए

प्रेग्नेंसी और ब्रेस्ट फीडिंग कराने वाली ​महिलाओं को भी तुलसी की पत्तियों का सेवन एक्सपर्ट की सलाह पर ही करना चाहिए. बिना सलाह के तुलसी के पत्ते खाने से नुकसान भी हो सकता है.

डायबिटीज की समस्या में

डायबिटीज की दवा ले रहे हैं तो तुलसी की पत्तियों का सेवन न करें. तुलसी की पत्तियों में कई गुण होते हैं, लेकिन किसी भी तरह की दवाई ले रहे हैं, तो एक्सपर्ट की सलाह पर ही तुलसी के पत्तों का सेवन करें.

इस बात का ख्याल जरूर रखें

आयुर्वेद के अनुसार, तुलसी की पत्तियों में ब्लड क्लॉटिंग को दूर करने का गुण मौजूद होता है, लेकिन अगर आपको ब्लड क्लॉटिंग की परेशानी नहीं है और आप खून गाढ़ा करने वाली दवाइयां ले रहे हैं, तो तुलसी की पत्तियों का सेवन अधिक मात्रा में न करें. इससे खून और अधिक पतला हो सकता है. 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Share post:

Subscribe

spot_imgspot_img

Popular

More like this
Related

आयुर्वेद के मशहूर लेखक, चिकित्सक और शिक्षक डॉ. एल महादेवन का निधन

आयुर्वेद चिकित्सा (Ayurveda) में देश विदेश में मशहूर डॉ....

भारतीय न्याय संहिता में आयुर्वेद और पारंपरिक डॉक्टर्स के साथ हुआ अन्याय

बेशक मोदी सरकार के राज में पारंपरिक चिकित्सा पद्धतियों...

Thyroid को जड़ से खत्म करने के लिए अपनाएं आयुर्वेद और योग

आज के मार्डन समय में लोगों को बीमारियों से...