Swami Ramdev एपिसोड के बाद आयुष मंत्रालय ने आयुष दवा निर्माताओं दी चेतावनी

Date:

स्वामी रामदेव मामले में सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court in Swami Ramdev case) के सख्त रवैये के बाद आयुष मंत्रालय (Ayush Ministry) ने सभी आयुर्वेदिक, सिद्ध, यूनानी और होम्योपैथिक (Ayurvedic, Siddha, Unani and Homeopathic) निर्माताओं को लेबलिंग और विज्ञापन नियमों का सख्ती से पालन करने की चेतावनी जारी की है। इससे पहले स्वास्थ्य मंत्रालय ने भी मार्डन मेडिसिन के डॉक्टर्स के दवा कंपनियों के प्रतिनिधियों से गिफ्ट के बदलने उनकी कंपनी की दवा लिखने को बैन कर दिया था।

दरअसल भ्रामक विज्ञापनों को लेकर पतंजलि आयुर्वेद पर सुप्रीम कोर्ट की फटकार के बाद, मंत्रालय ने अपना ध्यान आयुर्वेदिक, होम्योपैथिक या अन्य पारंपरिक दवा निर्माताओं से “100% सुरक्षित”, “गारंटी उपचार”, या “स्थायी इलाज” का दावा करने वाले विज्ञापनों को बंद करने के लिए चेताया है।
मंत्रालय ने उन उत्पादों के संबंध में स्पष्टीकरण प्रदान किया है जो निराधार दावे करते हैं या गलत जानकारी प्रदर्शित करते हैं, जैसे कि ‘100% शाकाहारी’ होने का दावा करने वाला ‘हरा लोगो’ दिखाना या झूठा दावा करना कि दवा “मंत्रालय द्वारा अनुमोदित या प्रमाणित है”। मंत्रालय ने निर्माताओं से आयुर्वेदिक, यूनानी, सिद्ध और होम्योपैथी दवाओं के लेबलिंग प्रावधानों और विज्ञापनों का ‘सख्ती से पालन’ करने को कहा है। सलाह में कहा गया है, “किसी भी रूप में या किसी भी मंच पर कोई भी भ्रामक दावा या विज्ञापन सामने आने पर सक्षम अधिकारी कानूनी कार्रवाई करेगा।”

मंत्रालय ने राज्य दवा लाइसेंसिंग अधिकारियों को लेबल पर या विज्ञापनों में ‘आयुष मंत्रालय द्वारा प्रमाणित या अनुमोदित’ होने का दावा करने वाली सभी दवाओं की जांच करने और अनुपालन सुनिश्चित करने का आदेश दिया है। इसमें कहा गया है, “आयुष मंत्रालय के संज्ञान में आया है कि कुछ आयुष दवा निर्माता अपनी दवा या उत्पाद के लेबल पर या प्रिंट, इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में विज्ञापन में ‘आयुष मंत्रालय द्वारा प्रमाणित या अनुमोदित’ का उल्लेख कर रहे हैं।”

जबकि मंत्रालय ने स्पष्ट किया कि किसी भी आयुष दवा या उत्पाद को विनिर्माण लाइसेंस या अनुमोदन देने में उसकी कोई भूमिका नहीं है, उसने चेतावनी दी कि आगे चलकर, लेबल या विज्ञापन पर ऐसा कोई भी दावा “मंत्रालय द्वारा कथित निर्माता के खिलाफ परिणामी कानूनी कार्रवाई” को आकर्षित करेगा। आयुष”

फर्जी दावों पर नजर

एडवाइजरी में कहा गया है कि उत्पाद ‘100% सुरक्षित’, ‘दुष्प्रभावों से मुक्त’, ‘गारंटीकृत उपचार’, या ‘स्थायी इलाज’ या आयुष दवाओं या उत्पादों के लिए न्यूट्रास्युटिकल मूल्य होने का दावा करने वाले उत्पाद गलत हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Share post:

Subscribe

spot_imgspot_img

Popular

More like this
Related

दस सालों में आयुष क्षेत्र में हुआ बहुत बड़ा बदलाव, आयुष मंत्रालय की रिपोर्ट

आयुर्वेद और पारंपरिक भारतीय चिकित्सा (Ayurveda and traditional Indian...

Ayurved की पांच औषधियां जोकि रखेंगी आपको बीमारियों से कोसों दूर

आयुर्वेद चिकित्सा पद्धति (Ayurveda medical system) में कुछ ऐसी...

सरकार आयुर्वेद के जरिए दूर करेगी लगभग एक लाख बच्चियों की कमज़ोरी

युवा बच्चियों में कमज़ोरी को दूर करने के लिए...