Goolar Benefits: गूलर के अनंत फायदे 

Date:

Goolar Health Benefits Home Remedy: औषधीय गुणों से भरपूर गूलर एक नहीं बल्कि कई तरह की दिक्कतों को दूर करने में खास भूमिका निभाता है. सिर्फ गूलर का फल ही नहीं बल्कि इसकी छाल और दूध milk भी सेहत health benefits को कई तरह के फायदे पहुंचाते हैं.

Goolar benefits: औषधीय गुणों से भरपूर गूलर goolar एक नहीं बल्कि कई तरह की दिक्कतों को दूर करने में खास भूमिका निभाता है. सिर्फ गूलर का फल ही नहीं बल्कि इसकी छाल और दूध भी सेहत को कई तरह के फायदे पहुंचाते हैं.

आइये जानते हैं इसके फायदों के बारे में-

पेट दर्द में (stomachache)
पेट दर्द होने पर गूलर के फल का सेवन किया जा सकता है. इसका फल खाने से पेट दर्द और गैस की दिक्कत में काफी आराम मिलता है.

डायबिटीज में
डायबिटीज की दिक्कत को दूर करने के लिए गूलर के फलों के छिलकों को सुखा कर बारीक पीस कर पाउडर बना लें. इसमें बराबर की मात्रा में मिश्री मिला कर गाय के दूध के साथ खाने से दिक्कत दूर होती है. लेकिन इसको केवल 6-6 ग्राम सुबह-शाम ही लें.

घाव ठीक करे
घाव को जल्द से जल्द ठीक करने के लिए गूलर के दूध का इस्तेमाल कर सकते हैं. इसके लिए आप रुई में गूलर का दूध लेकर घाव पर लगाएं.

नकसीर फूटने पर
नकसीर फूटने यानी नाक से खून आने पर गूलर की छाल आराम देती है. इसके लिए बीस-तीस ग्राम गूलर की छाल को पानी में पीसकर तालु पर लगाएं. इससे नाक से खून आना रुक जाता है.

कमजोरी दूर करें (weakness)
किसी भी वजह से अगर आपके शरीर में कमज़ोरी महसूस होती हो तो आप इसके लिए गूलर के फल की मदद ले सकते हैं. इसके लिए आप गूलर के सूखे फल को पीस कर पाउडर बना लें और इसका दस ग्राम की मात्रा में सेवन करें.

ब्लीडिंग होने पर (bleeding)
शरीर के किसी भी अंग से खून आने पर या पीरियड के समय ज्यादा ब्लीडिंग होने पर भी गूलर की मदद ली जा सकती है. इसके लिए गूलर के दो-तीन पके हुए फलों को चीनी या खांड़ के साथ खाना चाहिए.

ल्यूकोरिया की दिक्कत में
महिलाओं की ल्यूकोरिया बीमारी को ठीक करने में भी आप गूलर के रस की मदद ले सकती हैं. इसके लिए गूलर के पांच ग्राम रस को मिश्री के साथ मिलाकर पिया जा सकता है.

लूज मोशन यानी दस्त होने पर (loosemotion)
लूज मोशन यानी दस्त की दिक्कत होने पर गूलर के दूध की चार-पांच बूंदों को बताशे में डाल कर दिन में तीन बार खाने से काफी आराम मिलता है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Share post:

Subscribe

spot_imgspot_img

Popular

More like this
Related

आयुर्वेद के मशहूर लेखक, चिकित्सक और शिक्षक डॉ. एल महादेवन का निधन

आयुर्वेद चिकित्सा (Ayurveda) में देश विदेश में मशहूर डॉ....

भारतीय न्याय संहिता में आयुर्वेद और पारंपरिक डॉक्टर्स के साथ हुआ अन्याय

बेशक मोदी सरकार के राज में पारंपरिक चिकित्सा पद्धतियों...

Thyroid को जड़ से खत्म करने के लिए अपनाएं आयुर्वेद और योग

आज के मार्डन समय में लोगों को बीमारियों से...