Lipoma treatment: क्या आपके हाथ-पैर में गांठ है? जानिए बिना सर्जरी गांठ को पिघालने के 3 घरेलू उपाय

Date:

लिपोमा की गांठ त्वचा की नीचे बढ़ती है और इसे छूने पर दर्द नहीं होता है। इस तरह की गांठ किसी स्वास्थ्य समस्या का कारण नहीं बनती है लेकिन आपकी त्वचा की सुंदरता को प्रभावित जरूर कर सकती है।

कई बार शरीर के किसी भी हिस्से में ऐसी गांठ बन जाती है, जिसमें दर्द नहीं होता है। आमतौर शरीर में त्वचा के नीचे बनने वाली गांठ में दर्द हो सकता है। यह ऐसी गांठ होती है, जिसे दबाने से दर्द नहीं होता, यह किसी रबर की तरह महूस होती है और इसे आसानी से हिलाया जा सकता है। मेडिकल भाषा में इस तरह की गांठ को लिपोमा (Lipoma) कहा जाता है। इस तरह की गांठ अक्सर हाथ या पैर में बन सकती है।

लिपोमा की गांठ त्वचा की नीचे बढ़ती है और इसे छूने पर दर्द नहीं होता है। इस तरह की गांठ किसी स्वास्थ्य समस्या का कारण नहीं बनती है लेकिन आपकी त्वचा की सुंदरता को प्रभावित जरूर कर सकती है। हां, अगर आपको इससे किसी तरह की परेशानी हो रही है, तो इसका इलाज संभव है। चलिए जानते हैं कि शरीर में इस तरह की गांठ क्यों बन जाती है, इससे आपको क्या खतरा है, इसके क्या लक्षण हैं और इससे कैसे छुटकारा पा सकते हैं।

लिपोमा बहुत आम है। एक रिपोर्ट के अनुसार, हर 1,000 लोगों में से लगभग 1 को लिपोमा होता है। लिपोमा अक्सर 40 और 60 की उम्र के बीच दिखाई देते हैं, लेकिन वे किसी भी उम्र में हो सकते हैं। वे जन्म के समय भी उपस्थित हो सकते हैं। लिपोमा सभी लिंगों के लोगों को प्रभावित करता है, लेकिन वे महिलाओं में थोड़ा अधिक आम हैं।

(Symptoms of Lipoma)

लिपोमा आमतौर पर दर्दनाक नहीं होते हैं। बहुत से लोग जिन्हें लिपोमा होता है, उन्हें कोई लक्षण दिखाई नहीं देता है। राहत की बात यह है कि लिपोमा अपने आसपास के ऊतकों में नहीं फैलते हैं। हालांकि कई मामलों में आपको दर्द और परेशानी का सामना करना पड़ सकता है। इनका आकार गोल या अंडाकार होता है। इस तरह की गांठ का साइज 2 इंच से छोटा होता है लेकिन कई बार इस तरह की गांठ 6 इंच से अधिक चौड़ी हो सकती है।

(Causes of Lipoma)

लिपोमा की गांठ के क्या कारण हैं, इस बारे में पर्याप्त सबूत नहीं हैं। यह किसी को जेनेटिक हो सकती है। कुछ स्थितियों के कारण शरीर पर कई लिपोमा बन जाते हैं। इनमें शामिल हैं- डर्कम रोग जोकि एक दुर्लभ विकार दर्दनाक लिपोमा को बढ़ने का कारण बनता है। इसके अलावा गार्डनर सिंड्रोम, जेनेटिक मल्टिपल लिपोमैटोसिस और , मैडेलुंग डिजीज इसका कारण बन सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Share post:

Subscribe

spot_imgspot_img

Popular

More like this
Related

दस सालों में आयुष क्षेत्र में हुआ बहुत बड़ा बदलाव, आयुष मंत्रालय की रिपोर्ट

आयुर्वेद और पारंपरिक भारतीय चिकित्सा (Ayurveda and traditional Indian...

Ayurved की पांच औषधियां जोकि रखेंगी आपको बीमारियों से कोसों दूर

आयुर्वेद चिकित्सा पद्धति (Ayurveda medical system) में कुछ ऐसी...

सरकार आयुर्वेद के जरिए दूर करेगी लगभग एक लाख बच्चियों की कमज़ोरी

युवा बच्चियों में कमज़ोरी को दूर करने के लिए...