मानसून के दौरान अपने पैरों को स्वस्थ रखने के लिए महत्वपूर्ण सुझाव, शुगर के मरीजों को रखना होता है ज्यादा ख्याल

Date:

मानसून का मौसम मधुमेह रोगियों के लिए बहुत चिंता का समय हो सकता है क्योंकि नमी और आर्द्र मौसम पैरों से संबंधित संक्रमण के खतरे को बढ़ा सकता है। हालाँकि, कुछ सरल युक्तियों से आप मानसून के मौसम में अपने पैरों को स्वस्थ और सुरक्षित रख सकते हैं।

सही जूते पहनें

जब मधुमेह के पैरों की देखभाल की बात आती है, तो ऐसे जूते चुनना महत्वपूर्ण है जो पर्याप्त समर्थन और सुरक्षा प्रदान करते हैं। सुनिश्चित करें कि आप ऐसे जूते पहनें जो ठीक से फिट हों और चौड़े टो बॉक्स वाले हों ताकि आपके पैर की उंगलियों में ऐंठन या चुभन न हो। कैनवास या चमड़े जैसी सांस लेने योग्य सामग्री से बने जूते पहनना भी महत्वपूर्ण है। फ्लिप-फ्लॉप या सैंडल पहनने से बचें, क्योंकि ये उचित समर्थन और सुरक्षा प्रदान नहीं करते हैं।

अपने पैरों की नियमित जांच करें

प्रत्येक दिन कुछ समय निकालकर अपने पैरों की लालिमा, सूजन, दर्द, कटने या छाले के किसी भी लक्षण की जाँच करें। यदि आपको इनमें से कोई भी लक्षण दिखे तो तुरंत अपने डॉक्टर से संपर्क करें। इस मौसम में अपने पैरों को साफ और सूखा रखना भी महत्वपूर्ण है क्योंकि नमी के कारण त्वचा पर बैक्टीरिया पनप सकते हैं, जिससे संक्रमण हो सकता है। अपने पैरों को रोजाना गुनगुने पानी और हल्के साबुन से अवश्य धोएं। इसके अलावा, उन्हें अच्छी तरह से सुखा लें और यदि आवश्यक हो तो मॉइस्चराइजर लगाएं।

नंगे पैर चलने से बचें

मानसून के मौसम में नंगे पैर चलने से बचें क्योंकि जमीन गीली और फिसलन भरी हो सकती है, जिससे आपके फिसलने और गिरने का खतरा बढ़ सकता है। इसके अतिरिक्त, गंदी सतहों में हानिकारक बैक्टीरिया हो सकते हैं जो संक्रमण के खतरे को बढ़ा सकते हैं। अपने घर से बाहर हर समय जूते पहनना सुनिश्चित करें।

नियमित रूप से व्यायाम करें

व्यायाम मधुमेह संबंधी पैरों की देखभाल का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। नियमित व्यायाम से पैरों में रक्त संचार बनाए रखने में मदद मिलती है जिससे संक्रमण और घावों का खतरा कम हो जाता है। कम प्रभाव वाले व्यायाम जैसे चलना, तैरना या साइकिल चलाना मधुमेह वाले लोगों के लिए फायदेमंद हैं।

अपने रक्त शर्करा के स्तर की निगरानी करें

उच्च रक्त शर्करा का स्तर पैरों में रक्त परिसंचरण को कम कर सकता है जिससे पैरों में सुन्नता और झुनझुनी की अनुभूति हो सकती है। इसलिए, अपने रक्त शर्करा के स्तर की नियमित रूप से निगरानी करना महत्वपूर्ण है ताकि किसी भी उतार-चढ़ाव का पहले ही पता लगाया जा सके और उसके अनुसार इलाज किया जा सके।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Share post:

Subscribe

spot_imgspot_img

Popular

More like this
Related

आयुर्वेद के मशहूर लेखक, चिकित्सक और शिक्षक डॉ. एल महादेवन का निधन

आयुर्वेद चिकित्सा (Ayurveda) में देश विदेश में मशहूर डॉ....

भारतीय न्याय संहिता में आयुर्वेद और पारंपरिक डॉक्टर्स के साथ हुआ अन्याय

बेशक मोदी सरकार के राज में पारंपरिक चिकित्सा पद्धतियों...

Thyroid को जड़ से खत्म करने के लिए अपनाएं आयुर्वेद और योग

आज के मार्डन समय में लोगों को बीमारियों से...